Google+ Followers

Saturday, 6 December 2014

आज कुछ कमी....

आज कुछ कमी सी है तेरे बगैर;

ना रंग ना रौशनी है तेरे बगैर;

वक़्त अपनी रफ़्तार से चल रहा है;
बस धड़कन थम सी गयी है तेरे बगैर।

http://hottystan.mywapblog.com/