Google+ Followers

Tuesday, 4 November 2014

तुझे भुलना होता तो......

तुझे भुलना होता तो कब का भुला देते~
तुम "हसरत-ए-जिदंगी" हो~
कोई "मतलब-ए-जिदंगी" नही ~

http://hottystan.mywapblog.com/