Google+ Followers

Thursday, 9 October 2014

नासमझ तो वो ना थे इतना..

नासमझ तो वो ना थे इतना.. कि प्यार को हमारे समझ ना सके.. पेश किया दर्द-ए-दिल हमने नगमों में.. उसे वो सिर्फ शेर समझ बैठे!

http://hottystan.mywapblog.com/