Google+ Followers

Monday, 20 October 2014

चेहरों में दूसरों के....


चेहरों में दूसरों के तुझे ढूँढ़ते रहे ,

कहीं सूरत नहीं मिली कहीं सीरत नहीं मिली.....

http://hottystan.mywapblog.com/
Add caption