Google+ Followers

Thursday, 13 February 2014

कहीं अंधेरा तो.....


कहीं अंधेरा तो कहीं शाम होगी,,
मेरी हर खुशी तेरे नाम होगी,,
कभी माँग कर तो देख हमसे ऐ दोस्त
होंठों पर हँसी और हथेली पर जान होगी..

http://hottystan.mywapblog.com/